उत्तर प्रदेश सरकार ने मध्य प्रदेश सरकार की तर्ज पर मुख्‍यमंत्री कन्‍या विवाह योजना की तरह ही, राज्य में मुस्लिम लड़कियों की शादी के लिए, मेहर देने की योजना को अल्पसंख्यक विभाग की समीक्षा बैठक में स्वीकृति प्रदान की है.  इस योजना के तहत UP सरकार द्वारा अल्पसंख्यक समुदाय  के बीच सामूहिक शादियों का आयोजन किया जाएगा. जिसमे सरकार मेहर की रकम के रूप में बेटियों की शादी में मदद करेगी. 

 इस प्रकार की शादियाँ कल्याण मंडप के मॉडल पर कराई जायेंगी| इस प्रकार आयोजित होने वाली जाने वाली शादियाँ सद्भावना मंडप में आयोजित की जाएंगी| इस योजना के तहत राज्य सरकार मुस्लिम लड़के वालों की तरफ से मुस्लिम लड़की के परिवार को मेहर की अदायगी करेगी.

मेहर क्या है ?
मुस्लिम धर्म के अनुसार निकाह के समय दूल्हा पक्ष, दुल्हन पक्ष को दुल्हन के लिए काजी की मौजूदगी में मेहर की रकम अदा करती है.
अन्य उपयोगी जानकारी 
  • अभी इस योजना हेतु खाका तैयार किया जा रहा है जिसमे प्रारंभिक तौर पर प्रतिवर्ष लगभग 100 शादियां कराने का लक्ष्य सरकार द्वारा रखा गया है. 
  • इसके अलावा एक अन्य योजना के तहत बीपीएल वर्ग के परिवार में 2 पुत्रियों की शादी हेतु 20,000 रुपये की सहायता प्रदान की जाएगी.
  • तीन तलाक के लिए प्रदेश सरकार ने एक कमेटी का गठन किया है. समिति में रीता बहुगुणा जोशी मोहसिन रजा और बाकी महिला मंत्रियों को शामिल किया गया है. उच्च न्यायालय में होने वाली सुनवाई में राज्य सरकार अपना मजबूत पक्ष रखना चाहती है.

0 comments:

Post a Comment

 
Top
Blogger Template